Skip to main content

Posts

Showing posts from February, 2019

What Leads You Towards Excellence?

What Leads You Towards Excellence?
There is a saying, “Nothing succeeds like success; and nothing fails like failure.” We appreciate the end results, but never look at the efforts. It points to a business-like approach. But life is much more than business.
Growth must be universal, not local. In science we have seen that universal laws are more effective than the local ones which are subject to fluctuations. There are many scientists but only a few are remembered, like Newton, Einstein and Darwin because they showed us the eternity of science and the beauty of its creations.

तो एक-दूसरे से इन कारणों से अलग हैं - Streaming and Downloading

तो एक-दूसरे से इन कारणों से अलग हैं Streaming and Downloading 
किसी भी नेटवर्क मीडिया प्लेयर या कंप्यूटर पर मीडिया या डिजिटल मीडिया कंटेंट जैसे फोटो, म्यूजिक, वीडियो आदि को प्ले करने के दो तरीके हैं-स्ट्रीमिंग और डाउनलोडिंग। ये अलगअलग प्रोसेस से चलते हैं और इनके लिए कई लोकप्रिय प्लेटफॉर्म्स मौजूद हैं। इन प्लेटफॉर्म्स में से सही का चुनाव करने के लिए जरूरी होगा कि आप इनके बीच के अंतर को समझें और तभी एक सही नेटवर्क मीडिया प्लेयर या मीडिया स्ट्रीमर को चुनें। 
 Streamingक्या है?  वीडियो स्ट्रीमिंग के लोकप्रिय प्लेटफॉर्म्स हैं- यू- ट्यूब, नेटफ्लिक्स, हॉटस्टार, अमेजन प्राइम, हुलू आदि। स्ट्रीमिंग रियल टाइम में ही संभव है और इसके लिए तीन चीजें जरूरी हैं - इंटरनेट, स्क्रीन और सब्सक्रिप्शन। मीडिया को आप किसी कम्प्यूटर, मीडिया सर्वर या अपने होम नेटकवर्क नेटवर्क अटैच्ड स्टोरेज सर्विस (एनएएस) पर ‘द क्लाउड’ में सेव कर सकते हैं।
Downloading क्या है?  कुछ सर्विसेज (आइट्यून्स और वुडू) के जरिए आप किसी मूवी को पर्याप्त समय बाद डाउनलोड होने के दौरान देख सकते हैं। बिना कॉपीराइट-प्रोटेक्टशन वाली फाइल को कॉपी …

TWITTER CEO - शॉर्ट मैसेज में मेरी रुचि ने पहुंचाया ट्विटर तक : जैक डोर्स ( JACK DORSEY)

बचपन में हकलाने की समस्या से जूझने वाले ट्विटर सीईओ से जानें सफलता की कहानी

TWITTER CEO - शॉर्ट मैसेज में मेरी रुचि ने पहुंचाया ट्विटर तक : जैक डोर्स ( JACK DORSEY) 
आज जो लोग मुझे एक बेहद सफल व्यक्ति के तौर पर जानते हैं, उन्हें यह जानकर हैरानी हो सकती है कि मैं बचपन में बोलते हुए हकलाता था और बोलने में होने वाली परेशानी की वजह सेकाफी समय घर पर ही कम्प्यूटर के साथ
बिताता था। इस दौरान मेरे पेरेंट्स ने कम्प्यूटर में पुलिस स्कैनर नामक एक एप इंस्टॉल कर रखा था
जिस पर मुझे शॉर्ट मैसेजेज काे सुनना और समझना बहुत रुचि पूर्ण लगता था। शॉर्ट मैसेजेज में मेरी इसी
रुचि की वजह से बाद में मुझे ट्विटर तैयार करने का आइडिया आया। हाई स्कूल के दौरान ही मैंने
कम्प्यूटर प्रोग्रामिंग से जुड़ेप्रोग्राम्स सीखने शुरू कर दिए थे। हकलानेकी समस्या को दूर करनेके लिए
दवाइयां लेनेकी बजाए मैंनेस्पीच प्रतियोगिताओं में जाना व प्रैक्टिस करना शुरू किया। इसमें सबसे
खास बात यह है कि किसी भी काम को इनोवेटिव तरीके सेकरना मुझे बचपन से ही पसंद था।

दोस्तों को दिया स्टेटस शेयरिंग प्लेटफॉर्म  कॅरिअर की शुरुआत मैंने एक प्रोग्रामर के …