Skip to main content

Posts

Showing posts from September, 2019

इंसान ने जिन शब्दो के सही अर्थ नहीं समझे, उस में स्त्री, वफादारी, समशानघाट आदि शामिल है

अगर कोई बात मुस्करा कर कही जाए , वो बात समझना आसान हो जाता है 

अपने आप को पहचानो , कहना बड़ा असान होता है , पर अपने आप को पहचानना , बहुत दुखदायी होता है , इस कारण इंसान सारा जीवन अपने आप से छिपता-भागता रहता है

अच्छा दोस्त वो नहीं होता जो आपके लिए अपनी जान देने के लिए त्यार हो , बल्कि अच्छा दोस्त वो होता है , जो आपको भी मरने से बचा ले 

इंसान ने जिन शब्दो के सही अर्थ नहीं समझे, उस में स्त्री, वफादारी, समशानघाट आदि शामिल है 

अगर अंगूठा ना होता , तो जूते के तस्मे नहीं बांधे जाते, गिरा हुआ सिका उठाया नहीं जा सकता , कोई ढकन नहीं था खुलना , सुई में धागा ना पड़ता , कुछ भी पकड़ा - या प्रयोग नहीं होना था । 

बच्चा किसी को पहचानने का संकेत , अपनी मुस्कराहट से देता है ।

हर इंसान की छुट्टी का पहला अनुभव , स्कूल की छुट्टी से प्रपात होता है ।

झूठ नहीं बोलना चाहिए , यह आधा कथन है , बाकी आधा कथन यह है : सच ही बोलना चाहिए ।

चालाक , कामी, बेईमान , धोखेबाज़ का किसी तरह के सच में कोई दिलचस्पी नहीं होती ।

बच्चा आस-पास देख कर हैरान होता है , स्कूल की शिक्षा इस हैरानी को कुचल देती है। 


आत्मा के फैसले के विरोध में कोई अपील …

अपने आप को पहचानो , कहना बड़ा असान होता है , पर अपने आप को पहचानना , बहुत दुखदायी होता है , इस कारण इंसान सारा जीवन अपने आप से छिपता-भागता रहता है

अपने आप को पहचानो , कहना बड़ा असान होता है , पर अपने आप को पहचानना , बहुत दुखदायी होता है , इस कारण इंसान सारा जीवन अपने आप से छिपता-भागता रहता है